बरुआसागर(झांसी)- पुलिस थाना परिसर की चल रही सफाई के दौरान थाने की छत पर रखे एक बक्श में नरकंकाल मिलने से हड़कंप मच गया।पुलिस अब इस जानकारी करने में लगी है कि उक्त नरकंकाल थाने की छत पर कब और कंहा से आया।बुधवार को बरुआसागर थाने में उस वक्त हड़कंप मच गया जब थाना परिसर की की जा रही सफाई अभियान के तहत थाने की छत पर रखे एक बक्श को नीचे उतारा गया जब बक्श को खोलकर देखा गया तो उसमें एक काफी वर्षो पुराना नरकंकाल पाया गया तो पुलिस कर्मियों के भी तोते उड़ गये।आखिर यह बक्श कब थाने की छत पर रखा गया या कब आया इसका जबाब किसी के पास न होने से मामला पेंचीदा हो गया है। वहीं इस मामले में थाना से जुड़े मुंशी सहित अन्य कोई कुछ भी कहने से बचता नजर आया, वहीं अगर सूत्रों की मानें तो बताया कि उक्त लोहे का बॉक्स कई सालों से पुलिस थाना की छत पर पड़ा हुआ था,लेकिन कई थाना प्रभारी आए और चले गए लेकिन इस बक्से पर किसी का ध्यान नहीं गया,इस पूरे मामले में कुछ सवाल जरूर पैदा हो गए कि आखिर एक बड़ा लोहे का बक्शा ऐसा खुले में क्यों पड़ा रहा,आखिर उसमे नर कंकाल कब और कैसे आया,इसके साथ ही पुलिस की पैनी निगाह से आखिर ये बड़ा लोहे का बॉक्स कैसे छुपा रहा।खेर जो भी हो लेकिन थाना परिसर की खुली छत में एक लोहे के बॉक्स में नर कंकाल का मिलना कई सवाल पैदा कर चुका है,और पुलिस के लिए सिर दर्द भी बन चुका है।

बोलीं एएसपी….
थाना परिसर की खुली छत पर लोहे के बॉक्स में नर कंकाल मिलने पर एएसपी थाना प्रभारी अंजली विश्वकर्मा ने कहा कि थाना परिसर के रंग रोगन के साथ भवन सुंदरीकरण का कार्य चल रहा था,इसी साफ सफाई के दौरान एक लोहे के बॉक्स में नर कंकाल मिला है,जिसकी जांच के साथ पुराने रिकार्ड को खंगाला जा रहा है,प्रथम दृष्ट्या उक्त कंकाल कई साल पुराना प्रतीत हो रहा है, वावजूद इसके कंकाल से जुड़े सभी पहलुओं पर जांच के साथ  विधिक कार्यवाही अमल में लाई जाएगी।
आखिर क्यों हुई इतनी बड़ी लापरवाही….
थाने में मिले नरकंकाल ने पुलिस की कार्यप्रणाली पर भी कई प्रश्न चिन्ह खड़े कर दिये हैं,आखिर कई वर्षों से छत पर रखें वक़्शे की ओर किसी भी अधिकारी या कर्मचारी का ध्यान क्यो नही गया,सफाई अभियान भी हमेशा चलता रहता है,इस दौरान बक्श को खोलकर क्यो नही देखा गया या पूर्व के अधिकारियों के मामला संज्ञान में आया तो उन्होंने इस ओर ध्यान देना जरूरी नही समझा।साथ हीं अगर उक्त कंकाल किसी मामले से जुड़ा हुआ है तो इस प्रकार खुले में लापरवाही से नर कंकाल रखा जाना कितना सही और कितना गलत है…!

झाँसी उत्तर प्रदेश

+ There are no comments

Add yours