Fri. Oct 18th, 2019

रोज लिखते थे 30 पत्र तो डाक विभाग ने घर में लगवा दिया लेटर बॉक्स

नरसिंहपुर –  चिटि्ठयों में लिखे किस्सों-अफसानों की बातें तो खूब सुनी-पढ़ी जाती हैं लेकिन लेटर बॉक्स की कहानी शायद ही जेहन में आती हो। आज के डिजिटल दौर में जब चिट्ठी लिखना, उनका आना-जाना बेहद कम हो गया है

 

 

 

, ऐसे दौर में करेली के मोहद गांव में एक घर की दीवार पर लगा लेटर बॉक्स पत्रों से लगाव की अनूठी कहानी सुनाता है। उस घर में रहने वाले स्व. सुरेंद्र सिंह हर दिन 25-30 पत्र लिखते थे

 

यह जरुर पढ़े –

34000 सिक्के लेकर पहुंचा बिजली बिल भरने

 

इसलिए डाक विभाग ने एक लेटर बॉक्स उनके घर की दीवार पर ही लगवा दिया था। मोहद करेली से 5 किमी दूर है। सुरेंद्र सिंह के बेटे विक्रम सिंह बताते हैं कि उनके पिता को सभी लोग भैयाजी के नाम से पुकारते थे।

 

 

 

भैयाजी हर दिन 25 से 30 पोस्टकार्ड लिखते थे और इतनी ही संख्या में उनके पास देश-प्रदेश की विभिन्न जगहों से पत्रपत्रिकाएं आती थीं।उनके इस शौक से डाक विभाग भी परिचित था।

 

 

 

एक दौर में जब पोस्टकार्ड मिलना मुश्किल होता था तो विभाग गांव के पोस्टमैन राजेश सोनी के जरिए उन्हें एक-एक हजार खाली पोस्टकार्ड भिजवा देता था रामनारायण वर्मा से भी हर दिन पत्रों के जरिए संवाद होता था।

 

 

 

यह सिलसिला भी करीब डेढ़ दशक तक चलता रहा। पहले भैयाजी को पोस्टकार्ड डालने गांव के ही डाकघर जाना पड़ता था इसलिए विभाग ने घर की  भी मौजूद है। हालांकि अब इसमें इक्का- दुक्का पत्र ही डाले जाते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: