Tue. Jun 25th, 2019

हमीरपुर : चलो बुलावा आया है माता ने बुलाया है

हमीरपुर ! 52 सिद्ध पीठो में 22 वां शक्ति पीठ स्थान हमीरपुर जिले के सरीला तहसील के भेंडी डांडा गांव में माँ माहेश्वरी में माँ भक्तो के द्वारा जयकारो की गूंज गुंजायमान रही आज नवरात्रि के नौवें दिन क्षेत्र से दूर दराज से जवारे लेकर महिलाओ की कतारें लगी रही व विशाल सांग यात्रा निकाली गई ।प्रतिवर्ष की भांति इस वर्ष भी रात्रि 12 बजे से भक्तो का आना जाना शुरू हो गया था। लगभग 4-5 लाख भक्तो ने आकर माँ के दरवार मे दर्शन किये माँ से अपनी मन्नते मांगी।

 

 

यहां का इतिहास हजारो वर्ष पुराना है माँ का यह सच्चा दरवार है यहां पर जो भी भक्त 5 सोमवार आकर माँ के दरवार में जो अर्जी लगाते है । तो उनकी मन्नते जरूर पूरी होती है । यह देवी मेला उत्तर – प्रदेश में ग्रामीण स्तर में एक है जहाँ पर मिट्टी के बर्तन से लेकर सोने चांदी की दुकाने तक सजाई जाती है। मेला की सुरक्षा व्यवस्था को देखते हुए मंदिर व मेला परिसर पर सी सी टी वी कैमरों से नजर रखी जा रही है पूरे मेले में जगह-जगह सुरक्षा की दृष्टि से देखते हुए प्रभारी निरीक्षक जलालपुर बीरेंद्र प्रताप सिंह के नेतृत्व में पी ए सी बल एवं भारी पुलिस बल को तैनात किया गया है मेले में अलग से मेला कोतवाली बनाई गई है जिसके प्रभारी निरीक्षक इंद्र पाल सिंह जी के नेतृत्व में टीम गठित की गई है ।

 

 

जरूर पढ़ें –

 

गरौठा : प्राचीन मंदिर पर भक्तों की उमड़ी भारी भीड़

 

 

मेले में फायर सर्विस चिकित्सा व्यवस्था की गई है समिति द्वारा पानी की लाइट की व सफाई की उत्तम व्यवस्था की गई है 2 बजे दोपहर से माँ भक्त महिलाये अपने सिर में जवारों के खप्पर रख के माँ के दर्शन करने की भीड़ लग गयी कई माँ भक्त दंडवत प्रणाम करते हुए माँ के दरवार में पहुचे।

                                           सांग यात्रा में हजारों माँ भक्तो ने अपने गालो में सांग छेदन कराके माँ के दरवार में पहुचे जब कि कुछ माँ भक्तो के द्वारा अपने शरीर के 5 से 7 हिस्सो में सांग छेदन कराके माँ के दरवार में पहुचे जो की माँ का चमत्कार देखने को मिला किसी भी को अगर कांटा लग जाता है तो दर्द होता है किंतु मा के चमत्कार के कारण माँ भक्त हँसते हुए सांग छिदवाकर दौड़ते हुए जाते है ये स्थान क्षेत्र का आस्था का प्रतीक है इस स्थान पर नवरात्रि भर हवन पूजन व माँ भक्तो के द्वारा कन्या भोज व मुंडन निरंतर होता है !

 

माँ माहेश्वरी 22 वी सिद्ध पीठ स्थान का विशेष महत्व है जिसमे एक विशेष कुंड बना हुआ है जो माँ भक्त सच्चे मन से सच्चे ह्दय से कुंड में हाथ डालता है तो उस भक्त को प्रसाद के रूप में कुछ न कुछ जरूर मिलता है समिति ने बताया कि माँ माहेश्वरी का स्थान चमत्कारी स्थान है एक माँ भक्त के पुत्र नही हुए तो वो 5 सोमवार दर्शन किये उस मा भक्त के आज दो दो पुत्र है ऐसे कई जीते जागते उदाहरण है  !

 

एक माँ भक्त अपने पुत्रो की नौकरी के लिए माँ से फरियाद डाली कुछ दिनों बाद पुत्र की नौकरी लग गयी जिसके बाद माँ भक्त ने अपने पुत्र की दो महीनों की सैलरी माँ को अर्पित की आज पूरा क्षेत्र माँ के जयकारों में गुंजायमान रहा यह स्थान देश के कोने कोने का आस्था का प्रतीक है. !

रिपोर्ट- संदीप सैनी  

 

Subscribe Us On : YouTube

Like Us On : Facebook

 

%d bloggers like this: