तीन अंग्रेजी कानूनों का हुआ अंत, भारतीय कानून आज से हुआ लागू, भारतीय कानून में न्याय दिलाने पर होगी प्रार्थमिकता
1 min read

तीन अंग्रेजी कानूनों का हुआ अंत, भारतीय कानून आज से हुआ लागू, भारतीय कानून में न्याय दिलाने पर होगी प्रार्थमिकता

झांसी – भारतीय आपराधिक न्याय प्रणाली के नये युग का आज से आगाज हुआ है। , 163 साल पुराने IPC और CRPC को भूल जाइए, भारतीय दंड संहिता (IPC), दंड प्रक्रिया संहिता (CRPC) और 1872 के भारतीय साक्ष्य अधिनियम आज से बदल गया। इसके जगह पर भारतीय न्याय संहिता (BNS), भारतीय नागरिक सुरक्षा संहिता (BNSS) और भारतीय साक्ष्य अधिनियम (BSA) आज आधी रात से लागू हो गया। नए मुकदमे और प्रक्रिया बीएनएस, बीएनएसएस और बीएसए) तहत लागू हो गए। जिसके चलते आज झांसी के सभी थानों पर कार्यशाला आयोजित की गई है। इसके साथ ही झांसी के सीपरी थाने में आयोजित जागरूकता कार्यक्रम में आये हुए आम जनमानस के डीआईजी लोगों से चर्चा की। और नए कानून के प्रभावी, सफल क्रियान्वयन हेतु शहर के नागरिकों को जागरूक किया।।