बुनियादी सुविधाओं और विकास को तरसता तहसील मुख्यालय सरीला – बैद्यअंकुश सैनी
1 min read

बुनियादी सुविधाओं और विकास को तरसता तहसील मुख्यालय सरीला – बैद्यअंकुश सैनी

रिपोर्ट-देवेन्द्र राजपूत राठ /हमीरपुर
सरीला हमीरपुर -आजादी के 75 वर्षों के बाद जहाँ पूरा देश आज़ादी का अमृत महोत्सव मना रहा है वही बुन्देलखण्ड के जनपद हमीरपुर की पिछड़ी तहसील सरीला की स्थिति अनवरत दयनीय बनी हुई है बही सरीला निवासी अंकुश सैनी कहते हैं जहाँ एक ओर प्रदेश सरकार के नेतृत्व में प्रदेश के कई क्षेत्र विकास के नये नये कीर्तिमान स्थापित कर रहे है है वही जनपद हमीरपुर की सरीला तहसील यहां के जनप्रतिनिधियों और सरकारी भेदभाव और उदासीनता के चलते आज भी विकास से वंचित है आज़ादी के बाद से उत्तर प्रदेश का शायद पहला तहसील मुख्यालय सरीला होगा जहाँ आज भी कई अपवाद है कहने को सरीला को २२ वर्ष पूर्व तहसील मुख्यालय का दर्जा दिया गया था परन्तु सुरक्षा के नाम पर तहसील मुख्यालय में कोतवाली होना चाहिए लेकिन नगर में मात्र पुलिस चौकी है जिसमें रिपोर्ट भी दर्ज नहीं की जा सकती तहसील सरीला से मुख्यालय हमीरपुर और आस पास के सीमावर्ती जिलों और बड़े शहरों को जाने के लिये रोडवेज़ डिपो के नाम पर कोई सहारा नहीं है जहां से लोग मुख्यालय और आस पास जिलों में जा कर वापस आ सकें केवल डग्गामार गाड़ियों के भरोसे लोग दिन दिन भर इंतज़ार करते है आए दिन इन डग्गामार वाहनों से होने वाली दुर्घटनाओं में जान माल की क्षति होती है जिसका खामियाजा क्षेत्र की जनता लगातार भुगत रही है इसके बावजूद जिम्मेदार प्रशासन और जनप्रतिनिधियों द्वारा क्षेत्र के विकास की सुध न लेते हुए लगातार उदासीनता बरती जा रही है तहसील मुख्यालय से जोड़ने वाली सड़कों सरीला- जरिया हो या सरीला- छिबौली मार्ग सहित कई मार्गो का इतना बुरा हाल है की एक बार चलने के बाद दुबारा हिम्मत नहीं जुटा पायेंगे अगर मजबूरी में मरीजों को इन रास्तों पर आना जाना हो तो जर्जर हो चुके इन सड़क मार्गों पर चलना लोगो के लिए अब जानलेवा हो चुका है नगर सरीला में पीने के पानी के लिए पचासों साल पुरानी टंकी है जो अपनी उम्र पूरी कर कभी भी भर भराके गिर सकती है ट्यूबवेल नगर वासियों की जरूरत भर के पानी की आपूर्ति भी नहीं कर पा रहे आए दिन नगर में जल संकट की बदहाल तस्वीर सरीला की सड़को पर देखी जा सकती है इस पिछड़ी तहसील की जनता को बुंदेलखंड एक्सप्रेसवे का उपहार प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री द्वारा दिया गया लेकिन उसमें भी लिंक मार्ग न होने से यह भी तहसील क्षेत्र की जनता को एक्सप्रेसवे पर यात्रा करना भी एक सपना बनकर रह गया सरीला नगर में कई जनसमस्याएं और मुद्दे इतने ज्वलंत है कि लोगों का जनजीवन लगातार प्रभावित हो रहा है इसके बावजूद जिम्मेदारों के कानों पर जूं नहीं रेंग रही
सरीला कस्बा निवासी अंकुश सैनी बताते है कि जिम्मेदारों की लापरवाही से आए दिन पानी की सप्लाई बाधित रहती है जिससे इस भीषण गर्मी में भी पानी के लिए दर बदर भटकना पड़ता है नगर पंचायत सरीला द्वारा टैंकर की व्यवस्था की गई है