बुंदेलखंड राज्य निर्माण बिना बुंदेलखंड का विकास संभव नहीं
1 min read

बुंदेलखंड राज्य निर्माण बिना बुंदेलखंड का विकास संभव नहीं

रिपोर्ट-शौकीन खान/कौशल किशोर गुरसरांय
गुरसरांय(झांसी)। बुंदेलखंड मुक्ति मोर्चा की आज जनसंपर्क यात्रा का पड़ाव मां पीतांबरा गौशाला परिसर पहुँचा।जहाँ पर पत्रकारों से रूबरू होते हुए बुंदेलखंड मुक्ति मोर्चा के केंद्रीय महामंत्री व प्रवक्ता दिनेश भार्गव ने कहा कि बुंदेलखंड का विकास जब तक संभव नहीं है जब तक बुंदेलखंड प्रांत का निर्माण नहीं हो जाता।आज बुंदेलखंड में बड़े स्तर पर बेरोजगारी बड़ी है,और प्रदेश बड़ा होने के चलते केंद्रीय व राज्य सरकार की योजनाओं का लाभ बुंदेलखंड की जनता को नहीं मिल पा रहा है,और यहां पर पर्याप्त भूमि होने के बाद भी किसानों को खेतों के लिए पानी और पेयजल की समस्या से लेकर सरकार द्वारा चलाई संचालित योजनाएं सिर्फ और सिर्फ भ्रष्टाचार लापरवाही की भेंट चढ़ गई है जिसका जीता जागता उदाहरण प्रदेश सरकार एवं केंद्र सरकार की महत्वपूर्ण योजना हर घर नल हर घर जल योजना द्वारा बुंदेलखंड में किसी भी घर में पानी नहीं पहुंचा है और बदले में अव्यवस्था मिली है जिसके चलते झांसी जनपद सहित पूरे बुंदेलखंड की कस्बा से लेकर गांव गलियों के रास्ते उखाड़ दिए गए हैं और उसका खामियाजा आम जनता को भुगतना पड़ रहा है कि उसे पैदल भी अपने घर पहुंचने में परेशानी का सामना करना पड़ रहा है तो दूसरी ओर विद्युत कनेक्शन और विद्युत उपयोग के नाम पर झांसी जिले की गुरसरांय से लेकर पूरे बुंदेलखंड के ग्रामीण क्षेत्रों में आम उपभोक्ताओं जो की दो वक्त रोजी-रोटी आमजन गरीब मजदूर किसी तरह मजदूरी करके व्यवस्था बनाता है उनके खिलाफ विद्युत विभाग ने अंग्रेज शासन से भी बढ़कर अत्याचार करने का काम किया है और जगह-जगह विद्युत चोरी के मुकदमे लेकर विद्युत बिलों को बढ़ाकर आम उपभोक्ताओं को लूटने का लगातार दुस्साहस किया जा रहा है जिसके चलते कई लोगों को अपनी जान तक गवांना पड़ रही है,वर्तमान में बुंदेलखंड लोकसभा निर्वाचन 2024 में जो नतीजे आए हैं वह सब प्रदेश व केंद्र सरकार की योजनाओं की सही तरीके से मॉनिटरिंग न होने व अधिकारियों की तानाशाही गरीब जनता के साथ अत्याचार के कारण ही आए हैं जहां पूरे बुंदेलखंड में सभी लोकसभा और विधानसभा में भाजपा के खाते में गई थी जोकि आज बुंदेलखंड में 1मात्र सीट बची है l उसके लिए जन-जन से लेकर जनप्रतिनिधियों को बुंदेलखंड प्रांत के लिए संकल्प के साथ संघर्ष करना होगा।इस मौके पर बुंदेलखंड मुक्ति मोर्चा के जिलाध्यक्ष अरविंद कुमार बादल ने कहा कि आज उत्तर प्रदेश से हटकर उत्तराखंड हुआ है और पंजाब,हरियाणा जैसे छोटे राज्य विकास में काफी आगे हैं वहां विकास का कारण सही तरीके से प्रशासनिक व्यवस्था है लेकिन उत्तर प्रदेश की जितनी भारी भरकम आबादी और 80 लोकसभा वाला क्षेत्र जिसके चलते बुंदेलखंड का विकास संभव नहीं है और इसके लिए केंद्र व प्रदेश सरकार को चाहिए कि वह विकास से लेकर जन कल्याण के लिए बुंदेलखंड को सर्वोच्च प्राथमिकता के आधार पर प्रांत बनाए और बुंदेलखंड के लोगों को ही बुंदेलखंड के रोजगार में युवाओं को मौका दे बुंदेलखंड की खनिज संपदा का जिस प्रकार दोहन हो रहा है उसका खामियाजा बुंदेलखंडवासियों को भोगना पड़ रहा है। प्राकृतिक संतुलन पूरी तरह बिगड़ गया है।अधिकारी जनप्रतिनिधि इस लूट खसोट में सम्मिलित हैं इसके लिए बुंदेलखंड प्रांत को सर्वोच्च प्राथमिकता के आधार पर समय गवाएं बिना राज्य स्थापित किया जाना चाहिए। इस मौके पर अनुसूचित जनजाति मोर्चा के केंद्रीय अध्यक्ष ग्यासी लाल व बुंदेलखंड मुक्ति मोर्चा के युवा प्रकोष्ठ के केंद्रीय महामंत्री रितेश साहू ने अपने विचार व्यक्त किये। इस दौरान संचालन कर रहे अरविंद कुमार बादल ने कहा कि पत्रकारों की बुंदेलखंड राज्य निर्माण में में उनकी लेखनी का महत्वपूर्ण योगदान है इस दौरान बुंदेलखंड मुक्ति मोर्चा के तत्वाधान में स्थानीय पत्रकारों को भी अंग वस्त्र,श्रीफल देकर सम्मानित किया गया।