सुदामा चरित्र की कथा के साथ हुआ भागवत कथा का समापन
1 min read

सुदामा चरित्र की कथा के साथ हुआ भागवत कथा का समापन

रिपोर्ट-शौकीन खान/कौशल किशोर गुरसरांय

गुरसरांय (झांसी)।रेंज चौराहा स्थित एस आर कॉम्प्लेक्स में श्रीमती सुखदेवी त्रिपाठी की पुण्य स्मृति में चल रही श्रीमद्भागवत कथा का सुदामा चरित्र की कथा के साथ समापन हो गया।
अंतिम दिन भगवान कृष्ण के परम मित्र सुदामा जी की कथा सुनाते हुए
पुराणाचार्य पं राम किशोर पाठक ने कहा कि जो विपत्ति में काम आए वही सच्चा मित्र है।उन्होंने कहा जो संतोषी होता है वही धनवान होता है।सुदामा जी परम संतोषी ब्राम्हण थे ,इसलिए उन्हें धनवान कहा गया है।कलयुग में भगवान का भजन ही मुक्ति का साधन है।संगीतमय कथा में
ऑर्गन पर मिलन भाई , तबले पर धर्मेंद्र कौशिक,पैड पर संजय परिहार ने संगत की। मंच का संचालन राम खिलावन शास्त्री ने किया।
अंत मे आभार व्यक्त उत्तरप्रदेश सरकार के नोटरी अभय त्रिपाठी ने किया।
इस दौरान समाज सेवा के लिए नगर के पत्रकार एवं गणमान्य नागरिकों का सम्मान किया गया।
कथा की आरती श्रीमती रमा अभय त्रिपाठी एडवोकेट ने की।इस मौके पर के के तिवारी, रामपाल त्रिपाठी,अखिलेश पिपरैया,ओपी शर्मा,रामबाबू शर्मा ,पूर्व प्रधानाचार्य हरिमोहन तिवारी,राम भरोसे पेंटर,शिवकुमार तिवारी, दृगचन्द्र तिवारी,योगेश त्रिपाठी, सुरेन्द्र कुमार मिश्रा,नाथूराम पाठक,श्रीकांत पिपरसानियां,धर्मपाल सिंह परमार,भारतेंदु बुंदेला,प्रमोद पस्तोर,अनिल त्रिपाठी,लल्लन माते,सरजू शरण पाठक,सुनील चौहान,भगवान दास चौबे,जे जे मिश्रा,विवेक त्रिपाठी,श्याम सुंदर रिछारिया,मनोज बुधौलिया, देवेंद्र सिंह यादव देव,अशोक सेन,पीताम्बरा शरण त्रिपाठी, हरीबाबू शर्मा, रमाकांत त्रिपाठी, नवीन त्रिपाठी,लक्ष्मीनारायण घोष, जितेंद्र व्यास,अरविंद वशिष्ठ ,हरिकांत नायक,बीरेन्द्र यादव,पुष्पेन्द्र रिछारिया,चरणदास पटेरिया,विष्णु पस्तोर,जे पी चौरसिया आदि उपस्थित रहे।

बॉक्स में….. ‌

इनका हुआ सम्मान

समाजसेवी अखिलेश पिपरैया, ओपी शर्मा,ठाकुरदास तिवारी,शिवकुमार तिवारी,राजू पालीवाल,थानाध्यक्ष संतोष कुमार अवस्थी, पत्रकार कुंवर रामकुमार सिंह,सुकदेव व्यास,अरुण चतुर्वेदी,अखिलेश तिवारी सुट्टा,सरजू शरण पाठक,शिशुपाल सिंह सरस,फूल सिंह परिहार,सुनील चौहान,राजेश अग्रवाल,सुनील जैन डीकू,सार्थक नायक,शौकीन खान।