सुहागन महिलाओं ने अमास्या पर वट वृक्ष की पूजा कर पति के लंबे उम्र की कामना की
1 min read

सुहागन महिलाओं ने अमास्या पर वट वृक्ष की पूजा कर पति के लंबे उम्र की कामना की

रिपोर्ट-देवेंद्र राजपूत जिला व्यूरो राठ हमीरपुर

हमीरपुर।जनपद में वृहस्पतिवार के रोज जेष्ठ मास की आमास्या के अवसर पर सुहागन महिलाओं ने वट वृक्ष की पूजा अर्चना कर अपने पति के लंबे उम्र की कामना की।इस दिन को सुहागन महिलाओ ने धृति योग में वट सावित्री अमास्या के रूप में मनाया।इस दिन त्योहार में सुहागन महिलाए बट वृक्ष की विधिवत पूजा अर्चना कर अखण्ड सुहाग का वर मांगती है।जनपद में गुरुवार के रोज महिलाए पूर्वाह्न से ही स्नान ध्यान औऱ सोलह श्रगार कर पूजा की सामग्री ले वट वृक्ष की ओर जाती दिखी।वहाँ पहुँच उन्होंने विधिविधान से कच्चे धागे ,फल,सोलह श्रगार,चना,मिष्ठान,गुलगुचे,खीर पूड़ी,चन्दन,अक्षत,हल्दी, आदि से विधिवत पूजा की इस दौरान महिलाओं ने कच्चे धागे से वट वृक्ष के सात बार परिक्रमा कर पूजा की।समूचे जनपद में पूर्वाह्न से लेकर कड़ी धूप में अपराह्न तक महिलाओं की खासी भीड़ सोलह श्रगार कर पूजा की थाली सजा कर वट वृक्षो की ओर जाती दिखी। पोणाणिक मान्यताओं के अनुसार वट वृक्ष की विधिवत पूजा अर्चना करने से ब्रम्हा, विष्णु, महेश से पति के लंबे उम्र का आशीर्वाद प्रदान होता है।मान्यता है कि अमास्या को भगवान विष्णु की नाभि से कमल प्रकट हुआ था तब अन्य देवताओं से वृक्षों की उत्पत्ति हुई उसी समय यक्षों के राजा मणिभद्र से वट वृक्ष की उत्त्पत्ति हुई।यह वृक्ष अपनी विशेषताओं औऱ लंबी उम्र के लिए भी जाना जाता है।वही आज के दिन सती सावित्री ने भी यमराज से अपने पति के प्राणों की रक्षा की थी।बताया जा रहा है कि आज के दिन शनिदेव का भी जन्म हुआ था जिसे शनि जयंती के रूप में भी मनाया जाता है।ऐसे ही तमाम कथाएं विख्यात है इस त्योहार को लेकर हालांकि जनपद में यह त्योहार बड़ी धूमधाम से मनाया गया जिसमे महिलाओं ने अपने पति के लंबी उम्र की कामना की ।