अक्षय तृतीया पर विशाल मेला के साथ कन्याओं ने वट वृक्ष का पूजन कर भगवान से सुख समृद्धि का मांगा वरदान
1 min read

अक्षय तृतीया पर विशाल मेला के साथ कन्याओं ने वट वृक्ष का पूजन कर भगवान से सुख समृद्धि का मांगा वरदान

रिपोर्ट-शौकीन खान/कौशल किशोर गुरसरांय

गुरसरांय (झांसी)। अक्षय तृतीया के शुभ मुहूर्त पर खेरापति हनुमान जी मंदिर पर परंपरागत तरीके से विशाल मेले का आयोजन किया गया। जिसमें कन्याओं ने वट वृक्ष का पूजन अर्चन कर भगवान से सुख समृद्धि एवं पारिवारिक सुखों का वरदान मांगा। ज्ञात हो कि शास्त्रीय परंपरा के अनुसार अक्षय तृतीया पर कुंवारी कन्याओं के द्वारा बट वृक्ष की पूजा की जाती है तथा पानी में गले देवल को वितरित कर आशीष प्रदान किया जाता है ।पटकाना के खेरापति मंदिर पर इस परंपरा का निर्वाह होते हुए सैकड़ो वर्ष बीत गए ।बुजुर्ग लोगों के अनुसार यह परंपरा बरसों से चली आ रही है।इस मेले में भारतीय परंपरा के अनुसार कन्याओं के द्वारा बट वृक्ष का पूजन किया गया तथा चने के देवलों को प्रसाद के रूप में वितरित किया गया। यह कार्यक्रम देर रात तक चलता रहा। इस दिन सर्व सिद्धि योग बनता है। इसी दिन वर्ष में एक बार बांके बिहारी वृन्दावन में चरणों के दर्शन देते है। केदारनाथ में बाबा भोलेनाथ के पट भी खुलते ही।जिसमे शुभ कार्य किये जाते है। जिसके तहत कन्याओं के विवाह भी शुभ मुहूर्त में नगर में सम्पन्न हुए।