चमत्कार के प्रबल विरोधी थे संत रविदास महाराज-लल्लीराम कुशवाहा
1 min read

चमत्कार के प्रबल विरोधी थे संत रविदास महाराज-लल्लीराम कुशवाहा

रिपोर्ट-शौकीन खान/कौशल किशोर गुरसरांय

गुरसरांय (झांसी)। 25 फरवरी रविवार को मोहल्ला गांधीनगर रविदास मंदिर पर भारतीय बौद्ध महासभा के तत्वाधान में संत रविदासजी महाराज के जन्मोत्सव कार्यक्रम की अध्यक्षता प्रकाशानन्द महन्त रविदास मंदिर ने की। मुख्य अतिथि लल्लीराम कुशवाहा ने संत रविदास जी के जीवन एवं उनके द्वारा दिए गए जातिवाद, रुढ़िवाद,पाखंड वाद और मूर्ति पूजा के विरुद्ध संदेशों के बारे में बताते हुए कहा कि उनके उपदेशों से प्रभावित होकर मीराबाई सरीखी रानियां शिष्या बनने लगी थी। वे चमत्कार के विरोधी और अविष्कारके प्रबल पक्षधर थे उनके प्रबल विरोधियों द्वारा उनकी हत्या कर दी गई और प्रचारित किया कि उन्होंने पेट फाड़ कर जनेऊ दिखाने का काम किया। उनके बताएं रास्ते पर चलने का आग्रह किया। सभा को पंकज कुशवाहा,अख्तर राइन, डॉक्टर अखिलेश कुमार,कमलेश कुमार,नंदकिशोर भास्कर, शिवदयाल अंबेडकर,जगदीश बाबूजी सेरिया,आरवी भास्कर ने किया। कार्यक्रम का संचालन भानु प्रताप बरार व आभार जुगल किशोर मिस्त्री ने किया। इस मौके पर पूर्व अध्यक्ष गोपीनाथ बक्शी, राधेलाल,दामोदर दास,पूरन सिंह,ताराचंद भास्कर,मुकुंदी लाल, महेंद्र फौजी,मूलचंद दरोगा, डॉक्टर डीआर वर्मा,परमेश्वरी दयाल, कौशल किशोर,आत्माराम,जगदीश बाबूजी,सेवाराम,परशुराम भास्कर,राधेलाल गौतम,रामदास बरार,प्रकाश ठेकेदार,मुन्नालाल चौधरी पूर्व प्रधान सेमरी,आत्माराम मास्टर, सीताराम मिस्त्री,संतोष टेलर,वीरेंद्र यादव,लक्ष्मण नेता,कंचन दादी,गोलू राजा,अमित,राजू वाला पार्षद,रमेश चंद टिंकू पार्षद,मातादीन रजक,दीनदयाल कुरेठा,परमानंद,संतोष,जुगल किशोर,सुरेश ठेकेदार,लक्ष्मी प्रसाद पूर्व पार्षद,रवि आनंद,तनवीर अहिरवार,अशोक कुमार, हर्ष चौधरी,नीरज चौधरी,रामपाल,अराफ अंबेडकर,भूपेश चौधरी,अभिषेक जाटव,प्रिंस आदि बड़ी संख्या में लोग उपस्थित रहे।