पिछले 10 वर्षों में भारतीय अर्थव्यवस्था में कई सकारात्मक बदलाव
1 min read

पिछले 10 वर्षों में भारतीय अर्थव्यवस्था में कई सकारात्मक बदलाव

 झांसी- पिछले 10 वर्षों में भारतीय अर्थव्यवस्था में कई सकारात्मक बदलाव देखने को मिले हैं। कई चुनौतियों के बाद भी भाजपा सरकार ने सबका साथ सबका विकास मंत्र के साथ इन चुनौतियों पर विजय पताका फहराई है जिससे देश की जनता में नवीन चेतना जागृत हुई है। दूसरे देशों की अपेक्षा हमारे देश ने कोरोना जैसी महामारी के बाद भी अपनी अर्थव्यवस्था को बिगड़ता नहीं दिया। सभी के लिए आवास, हर घर जल, सभी के लिए बिजली, रसोई गैस, बैंक खाता जैसी योजनाओं ने निर्धन वर्ग को मुख्य धारा से जोड़ने का प्रयास किया है। भारत कृषि प्रधान देश है जिसकी अस्तित्व को बरकरार रखने के लिए हमारे अन्नदाता किसानों के लिए भी फसलों के न्यूनतम समर्थन मूल्य को भी समय-समय पर बढ़ाया गया जिससे ग्रामीण क्षेत्रों में भी आय की वृद्धि हुई और नये रोजगारों का सृजन हुआ। वर्तमान सरकार 2047 तक भारत को विकसित देश बनाने के लिए भी दृढ़संकल्पित है। महिलाएं, युवा, अन्नदाता किसान और निर्धन वर्ग के लिए सरकार प्राथमिकता से कार्य कर रही है क्योंकि उनके सशक्तिकरण से ही देश का कल्याण संभव है। पीएम सम्मन निधि योजना के तहत 78 लाख रेहड़ी-पटरी दुकानदारों को आर्थिक सहायता प्रदान कर सरकार ने रोजगार देकर उनका और उनके परिवार का भविष्य उज्जवल किया है। शिक्षा के क्षेत्र में भी सरकार लगातार कर रही है राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 के माध्यम से शिक्षा में कई सुधार लाये गए हैं साथ ही स्किल इंडिया मिशन के तहत एक करोड़ से अधिक युवाओं को प्रशिक्षित किया गया जिससे उनमें कार्य कौशल का विकास हुआ है। साथ ही 3000 नये आईटीआई स्थापित कर शिक्षा के स्तर को बढ़ाया गया। वहीं उच्चतर शिक्षा के लिए 7 आईआईटी, 16 आईआईआईटी, 7 आईआईएम, 15 एम्स, 390 विश्वविद्यालय स्थापित कर कीर्तिमान स्थापित किया है। ट्रिपल तलाक पर रोक, लोकसभा और राज्य विधानसभाओं में महिलाओं का एक तिहाई सीट पर आरक्षण जैसे कानून बनाकर सरकार ने आर्थिक स्तर के साथ सामाजिक और राजनीतिक स्तर भी सुधारने का प्रयास किया है। वैश्विक स्तर पर भी वर्तमान सरकार ने सराहनीय कार्य किए हैं चाहे वह भारत में उद्योग स्थापित करने की बात हो या अन्य देशों में भारत की साख मजबूत करना हो। विपरीत समय में भी भारत ने जी-20 जैसे समूहों की सदस्यता ग्रहण की यह साहसिक और कुशल नेतृत्व प्रदर्शित करने वाला कार्य रहा। सौर ऊर्जा के लिए चलाई जा रही योजनाओं के तहत एक करोड़ से अधिक परिवार निशुल्क बिजली प्राप्त कर रहे हैं। हमारे देश की गरीब जनता को आयुष्मान भारत योजना के तहत बहुत अधिक लाभ मिला है जिससे गरीब परिवार भी अच्छे अस्पतालों में अपना इलाज करना संभव बना सके। देश की जनता के मध्य इलेक्ट्रिक वाहनों का निर्माण, चार्जिंग स्टेशन और प्रचार प्रसार बढ़ाकर सरकार ने प्राकृतिक संतुलन को स्थापित करने का कार्य तो किया ही है साथ ही जनता की जेब से कुछ भार भी हल्का हुआ। पर्यटन स्थलों को भी विकसित करने पर सरकार कार्य कर रही है लक्षद्वीप और उसके जैसे अन्य दीप समूहों पर पत्तन निर्माण हो या आवागमन की सुविधाओं को सुगम बनाना हर क्षेत्र में सरकार कार्य कर रही है। साथ ही अयोध्या जी में श्री राम मंदिर निर्माण के बाद उत्तर प्रदेश सरकार के लिए भी यह एक बड़े पर्यटन स्थल व रोजगार सृजन क्षेत्र के रूप में उभर कर आयेगा। वर्तमान सरकार ने कई विकास कार्य कर देश को सामाजिक, आर्थिक और राजनैतिक रूप से तो मजबूत किया है परंतु कुछ क्षेत्रों में अब भी नये विधेयक लाने की संभावना बची हुई है जैसे कि बढ़ती जनसंख्या हमारे देश के विकास को पीछे की ओर धकेल रही है इसके लिए जनसंख्या नियंत्रण कानून, सामाजिक एकता बनाए रखने के लिए समान सिविल संहिता जैसे कानून लाकर देश को सशक्त बनाना होगा। मैं आशा करता हूँ कि कि इस बार का बजट भी देश की जनता के लिए सर्वांगीण हितकारी सिद्ध होगा और विश्व स्तर पर नए कीर्तिमान स्थापित कर हम विश्व गुरू के रूप में विजय पताका फहराने के लिए निरंतर आगे बढ़ते रहेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *