उरई/जालौन । ट्रैफिक सिपाही को अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के कार्यकर्ताओं की बाइक का चालान करना उस वक्त भारी पड़ गया है, जब विद्यार्थी परिषद के कार्यकर्ताओं ने सिपाही से बहस करनी शुरू कर दी, सिपाही ने जब इसका विरोध किया तो कार्यकर्ताओं ने सिपाही के साथ धक्का-मुक्की की। इस नजारे को देख वहां मौजूद पुलिस कर्मियों ने विद्यार्थी परिषद के कार्यकर्ताओं को रोकने का प्रयास किया। इस धक्का मुक्की को देखते हुए लोगों ने वीडियो बनाकर सोशल मीडिया वायरल कर दिया। वहीं इस मामले का संज्ञान लेने के बाद जालौन के पुलिस अधीक्षक ने अपर पुलिस अधीक्षक को मामले की जांच दी है, जिससे हकीकत सामने आ सके। पूरा मामला उरई कोतवाली क्षेत्र के अंतर्गत आने वाले कालपी बस स्टैंड के पास की है। कालपी बस स्टैंड के पास ट्रैफिक पुलिस का जवान विनोद कुमार की ड्यूटी लगाई गई थी और वह वाहनों की चैकिंग कर रहे थे। इसी दौरान अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के कुछ कार्यकर्ता बाइकों से निकले, जिन्हें देखकर ट्रैफिक पुलिस के जवान विनोद कुमार ने ट्रैफिक नियमों का उल्लघंन करने पर बाइक पर सवार एबीवीपी के कार्यकर्ताओं की बाइक की फोटो खींच ली, जिसे देख एबीवीपी के कार्यकर्ता ट्रैफिक सिपाही विनोद के पास जा पहुंचे और फोटो डिलीट करने के लिए कहने लगे, जिस पर ट्रैफिक जवान ने कानून के बारे में अवगत कराया। इसी बात पर अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के कार्यकर्ताओं ने सिपाही के साथ बदसुलूकी शुरू करनी शुरू कर दी, जिसे देख सिपाही ने अपना बचाव करने का प्रयास किया, मगर कार्यकर्ता बदतमीजी पर उतारू रहे, जिसे देखकर वहां तैनात अन्य सिपाही मौके पर पहुंचे, जिन्होंने अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के कार्यकर्ताओं को अलग किया। इस दौरान लोगों ने घटना को देखते हुए वीडियो बनाकर सोशल मीडिया में वायरल कर दिया। वहीं इस मामले का संज्ञान जब पुलिस अधीक्षक डॉक्टर ईरज राजा को हुआ, उन्होंने घटना की जांच अपर पुलिस अधीक्षक असीम चौधरी को दी, पुलिस अधीक्षक ने बताया कि घटना की जांच की जा रही है, जिसके बाद ही आगे की कार्रवाई की जाएगी।

झाँसी उत्तर प्रदेश

+ There are no comments

Add yours