लखनऊ ! मोहित लोधी ( UNS न्यूज़ एजेंसी ) राजधानी में कुछ ऐसी छुटपुट वारदाते बढ़ी है ! जो पुलिस की नज़रों से ओझल हैं ! अमूमन शहर में तोता गाड़ियों ( ऑटो ) की तादाद बढ़ी है जिनका परमिट बाहर का है ! ज़्यादातर ऐसे यात्री इन ऑटो के शिकार हो रहे है जो गैर जनपद जाने के लिए ऑटो पकड़कर रेलवे व बस स्टेशन आते जाते है ! ऑटो में बैठे यात्री को बरगलाकर ऑटो चालक गाना सुनने के बहाने यात्री से मोबाइल मांगकर अपने ऑटो की लीड में लगा लेते है , उतरते समय पैसे फुटकर करा के लाने , सिगरेट-बीड़ी पान मसाला मंगाने के बहाने जैसे ही यात्री चालक के झांसे में आकर ऑटो से उतरता है ! पलक झपकते ही ऑटो में रखा यात्री का सामान और मोबाइल लेकर चम्पत हो जाना इस गैंग का कार्य है ! जब यात्री मोबाइल मिलाता है ! तो मोबाइल स्विच ऑफ बताने लगता है ! लुटा हुआ यात्री रोते-गाते जब पुलिस के पास आपबीती सुनाने पहुंचता है उसे वहाँ भी मयूषी ही हाथ लगती है ! क्योंकि उसके पास ऑटो का नंबर नही होता आखिर में सिस्टम से परेशान थका हारा यात्री अपने गंतव्य की ओर रवाना हो जाता है ! ऐसी घटनाएं नाका , हुसैनगंज , कैन्ट ,आलमबाग सर्किल में बढ़ी है !

झाँसी उत्तर प्रदेश

+ There are no comments

Add yours