रिपोर्ट-शौकीन खान/कौशल किशोर गुरसरांय

गुरसरांय (झांसी)। उत्तर प्रदेश के झांसी जिले की गरौठा तहसील अंतर्गत आने वाली गुरसरांय नगर पालिका परिषद एक ऐसा क्षेत्र उभर कर सामने आ रहा है जहां विकास का पहिया कई दशकों से पूरी तरह रुका हुआ है जिसकी नजीर गुरसरांय नगर पालिका क्षेत्र में कहीं भी बस स्टैंड लगभग तीन दशक से अधिक समय से नहीं है जिससे यात्रियों से लेकर सरकारी और निजी बस चालको को भारी परेशानी का सामना करना पड़ता है कि आखिर बस कहां रोकी जाए तो दूसरी ओर उत्तर प्रदेश सरकार से लेकर उच्च न्यायालय के आदेश के बावजूद गुरसरांय की सार्वजनिक आम रास्ते तालाबों आबादी के लिए चिन्हित जगह पर अतिक्रमण भू माफियाओं द्वारा कर रखा है जिसके तहत गुरसरांय धनाई तालाब, नई बस्ती हनुमान जी बड़े मंदिर के पास आम रास्ते और गुरसरांय मऊरानीपुर रोड पर हरिजन आबादी के लिए खाली पड़ी जगह पर भू माफियाओं द्वारा कब्जा कर लिया है तो वही गुरसरांय एरच मार्ग पर नहर के पास आबादी की भूमि पर षडयंत्र पूर्वक अवैध कब्जा हो रहा है उधर गुरसरांय से मौठ़ मार्ग टाउन क्षेत्र के सड़क के दोनों तरफ पूरी तरह कचरा डला हुआ है और गुरसरांय मौठ़ इस मार्ग पर मरम्मत न होने से और सड़क का चौड़ीकरण ना होने से इस सड़क का केवल कागजों में नाम चल रहा है और बसे, ट्रक आदि पूरी तरह आवागमन बंद पड़ा हुआ है इस प्रकार की एक नहीं दर्जनों समस्याएं मुह खोलें पड़ी हुई है लेकिन सुनने वाला कोई नहीं कस्बा व क्षेत्र के लोगों को जिले के नए जिलाधिकारी से उम्मीद जागी है की जनहित और शासन हित में वर्षों से रुका हुआ विकास का पहिया गुरसरांय में अब घूमेगा।

झाँसी उत्तर प्रदेश

+ There are no comments

Add yours