बुंदेलखंड का विकास केवल पृथक राज्य निर्माण से संभव है – कुँवर सत्येन्द्र पाल सिंह
1 min read

बुंदेलखंड का विकास केवल पृथक राज्य निर्माण से संभव है – कुँवर सत्येन्द्र पाल सिंह

झांसी- बुन्देलखण्ड क्रान्ति दल ने जोरदार प्रदर्शन कर प्रधानमंत्री के नाम ज्ञापन सौंपा
आज बुंदेलखंड क्रांति दल के राष्ट्रीय अध्यक्ष कुँवर सत्येंद्र पाल सिंह के नेतृत्व में बुंदेलखंड राज्य के निर्माण की मांग को लेकर आयुक्त झांसी मंडल के कार्यालय परिसर में प्रदर्शन कर ज्ञापन दिया गया । कार्यकर्ताओं ने प्रधानमंत्री वादा निभाओ – बुन्देलखण्ड राज्य बनाओ , बुन्देलखण्ड तो लेंगे लेंगे – जैसे दोगे वैसे लेंगें आदि नारे लगा कर जोरदार प्रदर्शन किया । मंडल आयुक्त की अनुपस्थिति में प्रशासनिक अधिकारी को प्रधानमंत्री के नाम संबोधित ज्ञापन सौंपकर शीघ्र पृथक बुन्देलखण्ड राज्य निर्माण की मांग की .
इस अवसर पर हुई सभा को संबोधित करते हुए हुए राष्ट्रीय अध्यक्ष कुँवर सत्येंद्र पाल सिंह ने कहा की बुंदेलखंड का विकास केवल पृथक राज्य निर्माण से संभव है । बुंदेलखंड को लूटा जा रहा है। बुंदेलखंड से कलेक्ट होने वाला टैक्स बुंदेलखंड में खर्च नहीं किया जा रहा है। बुंदेलखंड में गरीबी है, शिक्षा का अभाव है, रोजगार का सृजन नहीं है, किसान सिंचाई के लिए परेशान है, विकास की योजनाएं चलाई नहीं जा रही है। आज हम इसलिए पृथक बुंदेलखंड राज्य निर्माण की मांग को लेकर आये हैं क्योंकि 01 नबम्वर 1956 को जवाहर लाल नेहरू ने बुंदेलखंड राज्य समाप्त कर हमारे साथ अन्याय किया था। तब से बिना किसी राज्य पुनर्गठन आयोग के हिंदुस्तान में अनेकों राज्य बनाए गए हैं , लेकिन बुंदेलखंड का राज्य नहीं बनाया । यह बुंदेलखंड के साथ अन्याय है। आज हम सरकार से मांग करते हैं की बुंदेलखंड राज्य जल्दी बना दो क्योंकि बुन्देलखण्ड राज्य के लिए आन्दोलन अब थमेगा नहीं
ज्ञापन में कहा गया कि 2014 के लोकसभा चुनाव के दौरान 27 /04 /2014 को झाँसी संसदीय चुनाव क्षेत्र की रैली में पूर्व केंद्रीय मंत्री सुश्री उमा भारती ने जी ने स्वंय माननीय प्रधानमन्त्री श्री मोदी जी के समक्ष बुन्देलखण्ड की जनता से वायदा किया था कि अगर केंद्र में भाजपा की सरकार आयी तो तीन वर्ष के भीतर पृथक बुन्देलखण्ड राज्य बना दिया जाएगा , लेकिन बहुत दुःख है कि इस सम्बन्ध में केंद्र सरकार द्वारा अब तक कोई कार्यवाही नहीं की गई है।
ज्ञापन में कहा गया कि 2011 की जनगणना के अनुसार पूरे बुन्देलखण्ड की जनसंख्या 1,83,34,753 है। बुन्देलखण्ड के पास 70,592 वर्ग किलोमीटर भूमि है। यदि उत्तर प्रदेश व मध्य प्रदेश के 14 जिलों को मिलाकर बुन्देलखण्ड राज्य बनाया गया तो अपनी जनसंख्या के अनुसार देश का 19 वां और जमीन के अनुसार देश का 18 वें नंबर का राज्य होगा। बुन्देलखण्ड छोटा राज्य नहीं होगा।
ज्ञापन में कहा गया कि आजादी के बाद 12 मार्च 1948 को पृथक बुन्देलखण्ड राज्य बनाया गया था। पृथक बुन्देलखण्ड राज्य के पहले मुख्यमंत्री श्री कामता प्रसाद सक्सेना बने थे ,नौगांव को पृथक बुन्देलखण्ड राज्य की राजधानी /मुख्यालय बनाया गया था। पृथक बुन्देलखण्ड राज्य लगभग 08 साल रहा। ,01 नवम्बर 1956 को राज्य पुनर्गठन अधिनियम देश की संसद में पारित हुआ । सन 1956 में 14 राज्य व् 06 केन्द्र शासित राज्य बनाये गये। 01 नवंबर 1956 को तत्कालीन प्रधानमंत्री पण्डित जवाहर लाल नेहरू द्वारा पृथक बुन्देलखण्ड राज्य को समाप्त कर बुन्देलखण्ड राज्य को दो भागो में विभाजित कर उत्तर प्रदेश व् मध्य प्रदेश में बांट दिया गया। तब से अनेक राज्य बनाए गए लेकिन बुन्देलखण्ड की हमेशा उपेक्षा की गई है।
आज के कार्यक्रम में मुख्य रूप से महानगर अध्यक्ष राज सिंह शेखावत, जिलाध्यक्ष विनोद वर्मा, जगदीश विश्वकर्मा, अनिल सिंह, अरविंद सिसोदिया , अनवार अहमद मंसूरी, अभय सिंह, , दुर्गा प्रसाद रायकवार, कृष्णा लिटोरिया, ,भोला शंकर कुशवाहा, अजय पटेरिया, प्रिंस बिदुआ ,राजकुमार विश्वकर्मा, अखिलेश कुमार, छात्र क्रांति दल की नगर अध्यक्ष महक लिखार , श्रीमती मुन्नी देवी अहिरवार, श्रीमती सुमन , श्रीमती उर्मिला, श्रीमती मालती, श्रीमती शकुंतला, श्रीमती लक्ष्मी, श्रीमती प्रेमवती आदि उपस्थित रहे।
संचालन महानगर अध्यक्ष राज सिंह शेखावत ने किया ने किया एवम मो . आरिफ कमाल ने आभार व्यक्त किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *