झमाझम बारिश से रात में आई खुशी गुरुवार को गम मैं बदली कस्बे में बाढ़ जैसे हालात बने
1 min read

झमाझम बारिश से रात में आई खुशी गुरुवार को गम मैं बदली कस्बे में बाढ़ जैसे हालात बने

रिपोर्ट-शौकीन खान/कौशल किशोर गुरसरांय

गुरसरांय (झांसी)। बुधवार 2 अगस्त की रात्रि मैं जब पानी बरसना चालू हुआ तो भीषण गर्मी से कुछ आम और खास लोगों को गर्मी से निजात मिली और यही बारिश 3 अगस्त को 11:00 बजे तक लगातार होने से खुशी गुरसरांय में कई बार्डो में मुसीबत बनकर सामने आ गई और लोगों को तेज पानी बरसात ने घरों में कैद रहने पर विवश कर दिया क्योंकि गुरसरांय के मातवाना, गांधीनगर,बाजार,कटरा,पायगा सहित एक दर्जन बार्डो में रास्ते से लेकर घरों में घुस जाने से लोगों को काफी आर्थिक क्षति उनके सामान भीग जाने से हुई है आनन-फानन अपने-अपने बच्चों को अभिभावक स्कूलों से सुरक्षित अपने घर लाने को मजबूर हो गए और लगातार कई घंटों विभिन्न मोहल्लों से आवागमन से लेकर लोगों की दिनचर्या कई घंटों थमी रही और चार-पांच घंटे बाद जब पानी का जलस्तर नीचे आया तो लोग किसी प्रकार भीगते हुए घर से अपनी दिनचर्या के लिए बाहर निकले बताते चलें कस्बे में देर रात से दोपहर तक लगातार हूई जोरदार बारिश से गुरसरांय के कई मोहल्लों एवं बस्तियों में जलभराव की स्थिति बन गई।

और जिसके चलते लोगों के घरों एवं दुकानों में पानी भर गया, और नगर में बाढ़ जैसे हालात पैदा हो गए। रात से शुरू हुई बारिश के बाद जनजीवन अस्त व्यस्त हो गया। नगर में झमाझम एवं जोरदार हुई बारिश से नगर के सभी नाले उफान पर है।
रात से लगातार हो रही जोरदार बारिश से नगर के मातवाना, कटरा बाजार,पायगा, गांधीनगर, करीम नाका,नारायणपुरा,नई बस्ती सहित नगर की कई कई बस्तियों में पानी भर गया है। इससे पूर्व वर्ष 2003 मैं भी बरसात लोगों के घरों एवं दुकान में में पानी भरने की समस्या पैदा हुई थी उस दौरान भी गुरसरांय कस्बे में बाढ़ जैसे हालात पैदा हो गए थे और लोगों को काफी मुसीबत एवं धन हानि का खामियाजा भुगतना पड़ा था। उस दौरान बड़ी मात्रा में बाढ़ के कहर से लोगों के मकान जमींदोज हो गए थे, और उनका घर गृहस्ती का सामान सब बांटने नष्ट हो गया था। लेकिन तब से लेकर अब तक स्थानीय प्रशासन नगर पालिका परिषद तथा जिला प्रशासन ने गुरसरांय कस्बे को बाढ़ से निजात दिलाने के लिए नगर में पानी की निकासी के लिए कोई ठोस इंतजाम नहीं किए हैं। आज हुई जोरदार एवं मूसलाधार बारिश से सबसे ज्यादा खराब हालात मोहल्ला मातवाना गांधीनगर पाएगा एवं बाजार आदि इलाकों में रहे। जहां पर लोगों के घरों एवं दुकानों में दो फीट तक पानी भर गया जिसके कारण उनका घर गृहस्ती का सामान भीग कर नष्ट हो गया मतवाना मोहल्ले में तो कई जानवर बाढ़ के पानी की चपेट में आकर बह गए। मौत वाना मोहल्ले में चिरगांव रोड पर कई फीट ऊंचा जलभराव हो जाने के कारण वाहनों के पहिए थम गए और लोगों को सड़क पर से बाढ़ का पानी उतर जाने के लिए घंटों इंतजार करना पड़ा। देर शाम बाढ़ का पानी उतर जाने के बाद ही लोग अपने गंतव्य को जा सके। उधर गांधीनगर मोहल्ले में करीम नाका के पास रोड पर बाढ़ का पानी आ जाने से लोगों के मकानों और दुकानों में पानी भरा गया है। और सड़कें पानी में डूब गई हैं। इससे सुबह लोगों को आने-जाने में परेशानी हुई। नगर में जोरदार बारिश के कारण बाढ़ के पानी आ जाने से नगर मैं जगह जगह हुई जलभराव की समस्या से लोग अपने घरों में देर शाम तक कैद बने रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *