जल्द ही किसानों को पेयजल और सिंचाई की परेशानियों से मिलेगा छुटकारा

ललितपुर। प्रदेश सरकार बुंदेलखंड के किसानों के लिए काफी मेहरबान है जहां उन सभी सरकारी योजनाओं का क्रियान्वयन कराया जा रहा है जिनकी बुंदेलखंड में जरूरत है । ऐसी ही सरकार की जन हितेषी योजनाओं के तहत अब बुंदेलखंड के जनपद के किसानों को सिंचाई की समस्या और पेयजल की समस्या से जल्द ही निजात मिलेगी। अब जनपद के कई उन किसानों के चेहरों पर उस समय मुस्कान नजर आएगी जिन्हें पेयजल के संकट से तो जूझना ही पड़ रहा था साथ ही खेती किसानी के लिए भी पानी उपलब्ध नहीं हो पाता था । ऐसे में सरकार की तरफ से रोशनी की किरण दिखाई गई जिसके लिए सरकार द्वारा संचालित की गई योजना के तहत अब जनपद में 65 किसानों के लिए 65 कुएं लघु सिंचाई विभाग के माध्यम से खुदबाए जाएंगे। इसके साथ ही जनपद के चिन्हित 7 छतिग्रस्त चेकडेमों का भी मरम्मतीकरण कराया जाएगा जिससे उस इलाके में आने वाले किसानों को पेयजल और सिंचाई की समस्या से निजात मिलेगी।
मिली जानकारी के अनुसार प्रदेश की योगी सरकार बुंदेलखंड के जनपद ललितपुर की किसानों के लिए जन्मतिथि योजनाओं की बरसात कर रही है ऐसी ही जन हितेषी योजना के तहत जनपद के 65 किसानों के लिए अनुदान राशि पर कृषि यंत्रों के साथ-साथ 65 कुएं भी लघु सिंचाई विभाग के माध्यम से खुद बाय जाएंगे ताकि किसानों को राहत मिल सके। इस कुओं में 50 सामान्य जाति के लिए और 15 अनुसूचित जाति के लिए रखे गए है। बताया गया है कि  यह सभी कुएं ब्लास्ट पद्दति से खुदबायें जाएंगे, जिनमें प्रत्येक कुएं की कीमत करीब 12 लाख 73 हजार निर्धारित की गई है। इस धनराशि में से दस लाख का अनुदान कुए के लिए दिया जाएगा, साथ ही इन की गहराई करीब 12 मीटर के आसपास होगी ताकि हमें हमेशा पानी भरा रह सके। इसके साथ ही 59000 रुपया कृषि संबंधी उपकरणों के लिए मिलेगा जिसमें से 32400 डीजल पम्प सिंचाई के लिए और खेतों तक पानी ले जाने के लिए 27 हजार की पाइप लाइन के लिए रखे गए है। जिसमें पम्प और पाइप दौनों में 90 प्रतिसत सरकार देगी और 10 प्रतिसत किसान को देना पड़ेगा। इस योजना के लिए लघु सिंचाई विभाग में अब तक 1500 आवेदन आ चुके है। जिनका सत्यापन कराने के बाद क्रमानुसार बरीयता सूची के आधार पर वितरण किया जाएगा।

50 लाख से होगा 7 चैक डैमों की मरम्मतीकरण का कार्य :
पानी की समस्या से जूझ रहे किसान अपने खेतों में फसलों की बुवाई नहीं कर पाते थे जिस कारण उन्हें बड़ी परेशानियों का सामना करना पड़ता था लेकिन अब शासन की मंशा के अनुरूप जनपद के 7 चैकडेमो के मरम्मत ई करण का कार्य करा जाएगा जिनकी अनुमानित लागत 50 लाख रुपया होगी। बताया गया है कि स्वीकृत धनराशि में सिर्फ 5 चेक डेमो के मरम्मतीकरण का कार्य करवाया जाना था, क्योंकि शासन द्वारा सिर्फ प्रति चेक डैम 10 लाख रुपए की धनराशि भेजी गई थी। लेकिन विभागीय अधिकारी कर्मचारियों की कार्यकुशलता से अब इस धनराशि से 7 चैकडेमों के मरम्मतीकरण का कार्य करवाया जाएगा।
बॉक्स
इन चैकडेमों का होगा मरम्मतीकरण:

जिन चैकडेमों के मरम्मतीकरण का कार्य कराया जाना है, उनमें से दो चेक डैम जखौरा ब्लाक में ग्राम बुडेरा के पास गन्याई नाले पर और दूसरा ग्राम बख्तर के पास खरखरी नदी पर बना है। इसके साथ ही विकासखंड मड़ावरा क्षेत्र के अंतर्गत ग्राम मकरीपुर के पास से निकली हुई अमझर नदी पर एक चेक डैम बना हुआ है तो वहीं दूसरा चैकडेम ग्राम गंगचरी के पास कनेरा नाले पर बना हुआ है। इसके साथ ही विकासखंड तालबेहट के अंतर्गत ग्राम बरीखुर्द में नरिया नाले पर बना हुआ चेक डैम, विकासखंड बार के अंतर्गत ग्राम सेमरा डांस के पास गड़ाघाट पर बना  हुआ चैकडेम और विकासखंड महरौनी के अंतर्गत ग्राम पंडाखेरा के पास बरसाती नाले पर बना हुआ चेक डैम शामिल है। इन सभी चेक डेमो की मरम्मती करण के कार्य के बाद यहां पर आसपास के किसानों को पेयजल के साथ-साथ सिंचाई के लिए पानी की सुविधा उपलब्ध होगी। जिससे किसान अपने खेतों में फसल बो सकेगा और अपनी आय भी बढ़ा सकेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Social media & sharing icons powered by UltimatelySocial