थानाध्यक्ष त्रिपाठी के स्थानांतरण पर हुआ भव्य विदाई समारोह
1 min read

थानाध्यक्ष त्रिपाठी के स्थानांतरण पर हुआ भव्य विदाई समारोह

रिपोर्ट -शौकीन खान/कौशल किशोर गुरसरांय

गुरसरांय(झांसी)।1 जुलाई शनिवार को थानाध्यक्ष गुरसरांय इंस्पेक्टर ललितेश नारायण त्रिपाठी का समथर थानाध्यक्ष पद पर स्थानांतरण हो जाने पर भव्य विदाई समारोह किया गया विदाई समारोह में बोलते हुए वरिष्ठ पत्रकार कुँवर रामकुमार सिंह ने कहा कि जिंदगी में सरकारी व गैर सरकारी स्थानांतरण सामान्य प्रक्रिया है लेकिन अपने दायित्व को इंस्पेक्टर ललितेश नारायण त्रिपाठी ने निभाया यह कार्यकाल यादगार रहेगा और हमेशा आम लोगों को अच्छा रहना चाहिए वहीं सुनील सिंह चौहान ने कहा कि जन सामान्य के लिए हमेशा उपलब्ध रहकर त्रिपाठी ने अपना स्थान बनाया था इस दौरान संचालन कर रहे अखिलेश तिवारी ने कहा प्रेस और पुलिस के बीच थाना प्रभारी ललितेश नारायण त्रिपाठी ने बेहतरीन सम्बंध बनाये थे।इस दौरान फूल सिंह परिहार,कौशल किशोर,सार्थक नायक,हरिशचंद्र नायक,आयुष त्रिपाठी,सुरेश सोनी सरसैड़ा,शौकीन खान,हरेंद्र सिंह राजावत उर्फ मुन्ना दाऊ,पुष्पेंद्र पटेल भडोकर,अशोक कुमार पटेल प्रधान सिर्वो,विजय सिंह अस्ता,पुष्पेंद्र पटेल प्रधान गढबई,सुरेश पांचाल,मुन्नी दाऊ कैरोखर,राजीव सोनी,धर्मेंद्र सोनी बल्ले आदि लोग मौजूद रहे अंत में अपनी विदाई समारोह उद्बोधन में इंस्पेक्टर ललितेश नारायण त्रिपाठी ने कहा कि यहां के मीडिया से जुड़े लोगों का जो मुझे स्नेह और सहयोग मिला है मैं कभी नहीं भूल सकता और समाज के हर व्यक्ति की सेवा करना मेरा कर्तव्य है।

31 thoughts on “थानाध्यक्ष त्रिपाठी के स्थानांतरण पर हुआ भव्य विदाई समारोह

  1. hello there and thank you for your information – I’ve definitely
    picked up something new from right here. I did however expertise a few technical issues
    using this website, since I experienced to reload the site a lot of times previous to I could get it to load properly.
    I had been wondering if your web host is OK? Not that I
    am complaining, but sluggish loading instances times will
    often affect your placement in google and could damage your high quality score if ads and marketing with Adwords.
    Anyway I am adding this RSS to my e-mail and could look out for a lot
    more of your respective interesting content. Make sure
    you update this again soon. I saw similar here: E-commerce

  2. Amicus cognoscitur amore, more, ore, re — Друг познаётся по любви, нраву, лицу, деянию.

  3. Howdy! Do you know if they make any plugins to assist with Search Engine Optimization? I’m trying to
    get my site to rank for some targeted keywords but I’m
    not seeing very good gains. If you know of any please share.
    Thanks! I saw similar art here: Choose escape room

  4. I’ve been browsing online greater than 3 hours today, but I by no means discovered any attention-grabbing article like yours. It is pretty worth sufficient for me. Personally, if all webmasters and bloggers made good content as you did, the internet will probably be a lot more useful than ever before!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *